MIRZA MD ARIF

MIRZA MD ARIF

Professional snake rescuer.
Authorized by District administrator to work in co-ordination with Bhadrak Wildlife authority.
Conduct awareness program about this reptile so as to save life and save these snakes from being killed.
Many awards and recognizance received by different organizations.
Our motive is to remove blind beliefs about snakes and save them from being harmed.
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
For emergency rescue
Call-+919040927692
+919348094492
General Enquiry.
Contact-+917008220170
+919776185786
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
To donate
Name-MIRZA MD ARIF
ACCOUNT NUMBER-100073515761(INDUSIND BANK-BHADRAK BRANCH)
IFSC CODE-INDB0000972
PHONEPE-9040927692
GPAY-9040927692


تعليقات

  • Ashraful Kabir
    Ashraful Kabir8 دقائق قبل

    Very carefully rescue the snake. So many thanks to you.

  • You all think you know
    You all think you know18 دقائق قبل

    Very dangerous snake 🐍 God bless and keep sharing your message 🙏

  • Mike Moreno
    Mike Moreno20 دقائق قبل

    Amazing skills handling that snake.

  • Kontrin I. A.
    Kontrin I. A.23 دقائق قبل

    Спасибо, очень интересное видео 👍

  • Gladson Jeremias
    Gladson Jeremias24 دقائق قبل

    Mashallah.

  • Traveller Social Activist TSA
    Traveller Social Activist TSA50 دقائق قبل

    Ooooo Bette Moz Kardi

  • Praveen Chaand
    Praveen Chaandساعات قبل

    Bhai aap toh aisy dekh rhy ho snake ko jaisy snake k daant me dard hai or aap check kr rhy hai ki kon se daant me dard ho rha hoga.sabdhani se resque kryyy

  • TUTU SHREE
    TUTU SHREEساعات قبل

    Thanks

  • gloria aguilar
    gloria aguilarساعات قبل

    GOOD AFTERNOON MR.MIRZA.😍

  • SPN Lifestyle
    SPN Lifestyleساعات قبل

    Why snake can under fridge

  • apala sarkar
    apala sarkarساعات قبل

    🙏

  • Drx. S. Kumar Mourya (Bhogalamau)
    Drx. S. Kumar Mourya (Bhogalamau)ساعات قبل

    एक जमाना था... खुद ही स्कूल जाना पड़ता था क्योंकि साइकिल बस आदि से भेजने की रीत नहीं थी, स्कूल भेजने के बाद कुछ अच्छा बुरा होगा ऐसा हमारे मां-बाप कभी सोचते भी नहीं थे... उनको किसी बात का डर भी नहीं होता था, 🤪 पास/नापास यही हमको मालूम था... *%* से हमारा कभी भी संबंध ही नहीं था... 😛 ट्यूशन लगाई है ऐसा बताने में भी शर्म आती थी क्योंकि हमको ढपोर शंख समझा जा सकता था... 🤣🤣🤣 किताबों में पीपल के पत्ते, विद्या के पत्ते, मोर पंख रखकर हम होशियार हो सकते हैं ऐसी हमारी धारणाएं थी... ☺️☺️ कपड़े की थैली में...बस्तों में..और बाद में एल्यूमीनियम की पेटियों में... किताब कॉपियां बेहतरीन तरीके से जमा कर रखने में हमें महारत हासिल थी.. .. 😁 हर साल जब नई क्लास का बस्ता जमाते थे उसके पहले किताब कापी के ऊपर रद्दी पेपर की जिल्द चढ़ाते थे और यह काम... एक वार्षिक उत्सव या त्योहार की तरह होता था..... 🤗 साल खत्म होने के बाद किताबें बेचना और अगले साल की पुरानी किताबें खरीदने में हमें किसी प्रकार की शर्म नहीं होती थी.. क्योंकि तब हर साल न किताब बदलती थी और न ही पाठ्यक्रम... 🤪 हमारे माताजी पिताजी को हमारी पढ़ाई बोझ है.. ऐसा कभी लगा ही नहीं.... 😞 किसी एक दोस्त को साइकिल के अगले डंडे पर और दूसरे दोस्त को पीछे कैरियर पर बिठाकर गली-गली में घूमना हमारी दिनचर्या थी.... इस तरह हम ना जाने कितना घूमे होंगे.... 🥸😎 स्कूल में मास्टर जी के हाथ से मार खाना, पैर के अंगूठे पकड़ कर खड़े रहना, और कान लाल होने तक मरोड़े जाते वक्त हमारा ईगो कभी आड़े नहीं आता था.... सही बोले तो ईगो क्या होता है यह हमें मालूम ही नहीं था... 🧐😝 घर और स्कूल में मार खाना भी हमारे दैनंदिन जीवन की एक सामान्य प्रक्रिया थी..... मारने वाला और मार खाने वाला दोनों ही खुश रहते थे... मार खाने वाला इसलिए क्योंकि कल से आज कम पिटे हैं और मारने वाला इसलिए कि आज फिर हाथ धो लिए 😀...... 😜 बिना चप्पल जूते के और किसी भी गेंद के साथ लकड़ी के पटियों से कहीं पर भी नंगे पैर क्रिकेट खेलने में क्या सुख था वह हमको ही पता है... 😁 हमने पॉकेट मनी कभी भी मांगी ही नहीं और पिताजी ने कभी दी भी नहीं.... .इसलिए हमारी आवश्यकता भी छोटी छोटी सी ही थीं....साल में कभी-कभार दो चार बार सेव मिक्सचर मुरमुरे का भेल, गोली टॉफी खा लिया तो बहुत होता था......उसमें भी हम बहुत खुश हो लेते थे..... 😲 छोटी मोटी जरूरतें तो घर में ही कोई भी पूरी कर देता था क्योंकि परिवार संयुक्त होते थे .. 🥱 दिवाली में लगी पटाखों की लड़ी को छुट्टा करके एक एक पटाखा फोड़ते रहने में हमको कभी अपमान नहीं लगा... 😁 हम....हमारे मां बाप को कभी बता ही नहीं पाए कि हम आपको कितना प्रेम करते हैं क्योंकि हमको आई लव यू कहना ही नहीं आता था... 😌 आज हम दुनिया के असंख्य धक्के और टाॅन्ट खाते हुए...... और संघर्ष करती हुई दुनिया का एक हिस्सा है..किसी को जो चाहिए था वह मिला और किसी को कुछ मिला कि नहीं..क्या पता.. 😀 स्कूल की डबल ट्रिपल सीट पर घूमने वाले हम और स्कूल के बाहर उस हाफ पेंट मैं रहकर गोली टाॅफी बेचने वाले की दुकान पर दोस्तों द्वारा खिलाए पिलाए जाने की कृपा हमें याद है..... वह दोस्त कहां खो गए , वह बेर वाली कहां खो गई.... वह चूरन बेचने वाली कहां खो गई...पता नहीं.. 😇 हम दुनिया में कहीं भी रहे पर यह सत्य है कि हम वास्तविक दुनिया में बड़े हुए हैं हमारा वास्तविकता से सामना वास्तव में ही हुआ है... 🙃 कपड़ों में सलवटें ना पड़ने देना और रिश्तों में औपचारिकता का पालन करना हमें जमा ही नहीं...... सुबह का खाना और रात का खाना इसके सिवा टिफिन में अखबार में लपेट कर रोटी ले जाने का सुख क्या है, आजकल के बच्चों को पता ही नही ... 😀 हम अपने नसीब को दोष नहीं देते....जो जी रहे हैं वह आनंद से जी रहे हैं और यही सोचते हैं....और यही सोच हमें जीने में मदद कर रही है.. जो जीवन हमने जिया...उसकी वर्तमान से तुलना हो ही नहीं सकती ,,,,,,,, 😌 हम अच्छे थे या बुरे थे नहीं मालूम , पर हमारा भी एक जमाना था 🙏 और Most importantly , आज संकोच से निकलकर , दिल से अपने साक्षात देवी _देवता तुल्य , प्रात स्मरणीय , माता _ पिता , भाई एवं बहन को कहना चाहता हूं कि मैं आपके अतुल्य लाड, प्यार , आशीर्वाद , लालन पालन व दिए गए संस्कारो का ऋणी हूं 🙏, 🙏🏻☺😊 एक बात तो तय मानिए जो भी👆🏻 पूरा पढ़ेगा उसे अपने बीते जीवन के कई पुराने सुहाने पल अवश्य याद आयेंगे।🙏🏻 ✍️ *सोनू कुमार मौर्य* *भोगलामऊ, मलिहाबाद, लखनऊ* 7618027526

  • mario guzzi
    mario guzzi2 ساعات قبل

    Excellent rescue Mirza. We don't expect anything less god bless you and the team jai hind jai bharat 🔥🔥🤘👍🙏

  • nila chatterjee
    nila chatterjee2 ساعات قبل

    Great rescue Sir..

  • TORCH LIGHT💡
    TORCH LIGHT💡2 ساعات قبل

    In such a tidy home in the presence of many ppl s cobra getting acces to fridge n hiding beneath it seems impossible I suspect some body put the snake there unobserved merely to make a Video Dr V. Ahmed. M. B. B. S. Ex Senior Medical. Officer

  • TORCH LIGHT💡
    TORCH LIGHT💡2 ساعات قبل

    Ethnay saaf suthray ghar k kitchen m fridge k neechay. Saanp chup kr betha.. Yaqeen ni krskthay. ...... Lgtha h kisi ne chhupa kr rkkh deya srf Video bnane k liye Dusri baath chikna floor h es pr tho snake ko chlna bhi mshkl hotha h.

  • Mahboob Khan
    Mahboob Khan3 ساعات قبل

    You are very , very daring and safe rescuer take care sir .

  • md shahid anwar
    md shahid anwar3 ساعات قبل

    Very brave bangli man

  • سكورة (دوار أولاد مرزوق )
    سكورة (دوار أولاد مرزوق )3 ساعات قبل

    👍👍👍👍👍👍

  • Rohit Vaghela
    Rohit Vaghela3 ساعات قبل

    જય હરિહર જય હરિહર મહાદેવ મહાદેવ 🙏👍

  • ian bennett
    ian bennett4 ساعات قبل

    That is one COOL Snake under the fridge. 😂😂😂

  • Papiya Chatterjee
    Papiya Chatterjee4 ساعات قبل

    Ba bare baba kanha chupe hain iye sanp excellent performance

  • Mamta Priyadarshi
    Mamta Priyadarshi4 ساعات قبل

    Brilliant job we respect this rescue but be careful

  • all oVeR
    all oVeR4 ساعات قبل

    Sir snake jab ak dusre ko jab bité karte hai to snake ko kuj hota hai ja nahi

  • chaitanya kishor Roland xps30
    chaitanya kishor Roland xps304 ساعات قبل

    कुछ भी लिख देते हो सांप ने कौन से मुर्गे से पंगा लिया झूठी खबर

  • S.P. SNAKE CATCHER 🐍
    S.P. SNAKE CATCHER 🐍4 ساعات قبل

    🙏🙏🙏🙏

  • Abhijit Bhatra
    Abhijit Bhatra5 ساعات قبل

    Impressive size cobra healthy also Sad for loss of life, a young snake rescuer

  • satya naik
    satya naik5 ساعات قبل

    ଭୋଲ ଭାବର ଧରି ଲ

  • Denise Ost
    Denise Ost5 ساعات قبل

    Bonjour Mirza et toutes et tous, quel travail pour trouver ce cobra , ils trouvent toujours un coin pour se cacher , amitié 🐞

  • Waldemar Korkuś
    Waldemar Korkuś5 ساعات قبل

    Cobra showed great cunning and dexterity, maneuvering among the hardware of this refrigerator. But she had no chance of escaping, not from you, my friend. 🙂 This household goods store was interesting. I didn't know refrigerators could have such surprising colors. Painted with such motifs, they can undoubtedly be an interesting decoration of the kitchen.👍 I have not seen such ones with us.🙁 And what else I noticed, the shop was clean, the floor was clean. Bravo to the owners.👍 It was a good action my friend and a new interesting place in Bhadrak. 👍 Greetings to all the people of Bhadrak. 🙂 Thanks, Mirza.🙏🤝👍🙂💓